Tuesday, August 12, 2014

अहंवाद

ये बजता बहुत है
चीखता भी बहुत है
न सुनो तो मचलता 
भी बहुत है 
मुझ में, मुझसे
ज़्यादा वो रहता है 
मेरा "मैं"
अहंवाद
Post a Comment