Tuesday, September 16, 2014

प्रेम

कुम्हार मटका गडते हुए कुछ
कह रहा था, तुमने सुना नहीं

प्रेम धीमी आँच पर छोड़
दो
Post a Comment