Friday, April 27, 2012

सौदा


दिन रात का सौदा
ख़त्म ही नहीं होता
दिन बिक जाता है पर
रात अपनी ही सौदागर
खरीदार बहुत है शातिर
अंधेरो की भी लूटते है
चाहे,सिक्के ने हाथ तोड़
दिया ...
Post a Comment