Sunday, August 23, 2015

क्षणिकाएँ

खामोशी जलाती है.
कुछ नहीं मिल रहा है
न दर्द न प्रेम
अब कविता कैसे लिखूं
*********************************
शोर बहुत है आसपास
बस तू ज़रा बोल दे.
खामोशी का शोर दिल तक
जाता है
******************************
लोग जाने क्या मुट्ठी में
दबाए घूमते है??
समुंदर,एक हथेली भर खारा पानी
*******************************
लो फिर आ गया दर पर
जितना जीना का सोचता है
उतनी ही प्यास बडती है.
ज़िंदगी बुझ रही है, प्यास में
***************************************
हज़ार इलाज़ लिए ज़िंदगी
जीने के , हज़ार वैद से
मिले ,पर किसी ने बुद्ध
बनने की दवा न दी
********************************
सुना है बड़े संजीदा है लोग
अपनी अपनी मुहब्बत लेकर
दिल फिर भी कई
कहानियो से गुलज़ार है
*****************************
जब कुछ न हो कहने को तो
अपना ही किस्सा कह देते हैं
दुनियाँ का एक साज़ो सामान
आख़िर मैं भी तो हूँ
***************************************
चलो अब दर्द की गुहार ज़्यादा
न करो कुछ और लिखते है
आओ प्रेम प्रीत की बात करे
फिर बुद्ध हो जाए
Post a Comment