Thursday, April 11, 2013

संडल

उस दिन जगमगाती कंक्रीट
की सड़क पर वो पैर
ढपक ढपक कर चल
रही थी

सोती सड़क की धड़कने
सुना रही थी
या सोई धड़कनो
को जगा रही थी

उँची हील का संडल उसे
किसी ने उतरण में दिया था..
Post a Comment