Sunday, October 6, 2013

प्रेम

मिश्री सा मीठा
कुछ देर ज़ुबान पर ठहरा
फिर खारा पानी
बन आँख से बह गया .. प्रेम

Post a Comment