Sunday, January 5, 2014

तुम

हर आती जाती साँस
के अंतराल में ,तुम 
कही ठहरे रहते हो
तुम साँस फूकते हो 
तब में साँस लेती हूँ 

Post a Comment